Home
Videos uploaded by user “FinancialBakwas”
22 Golden Rules of Investment!! निवेश करने के 22 सुनहरे नियम और निवेश करने की कला!!
 
12:38
22 Golden Rules of Investment!! निवेश करने के 22 सुनहरे नियम और निवेश करने की कला!!
Views: 5624 FinancialBakwas
निवेश कहाँ करें Where to Invest
 
06:27
निवेश कहाँ करें Where to Invest 1. शेयर बाजार में 2. म्यूच्यल फंड में 3. बैंक की एफ,डी में
Views: 25166 FinancialBakwas
Cancelled Cheque Fraud कैंसल्ड चैक से धोखाधड़ी से बचें
 
02:27
Cancelled Cheque Fraud कैंसल्ड चैक से धोखाधड़ी से बचें
Views: 4743 FinancialBakwas
जीवन बीमा प्लॉन कितने प्रकार के होते हैं  Types of life insurance plans
 
05:53
जीवन बीमा प्लॉन कितने प्रकार के होते हैं – सभी लोग जीवन बीमा लेते हैं, परंतु उन्हें पता ही नहीं होता है कि जीवन बीमा कितने प्रकार के होते हैं और उसके बीच क्या अंतर होता है। यहाँ आप संक्षेप में विभिन्न प्रकार के बीमा प्लॉन के बारे में समझ पायेंगे। टर्म लाईफ पॉलिसी (Term Insurance) – जीवन बीमा याने कि टर्म लाईफ पॉलिसी एक निश्चित समय अंतराल में बिना किसी बचत या लाभ के आपके जीवन को जोखिम से सुरक्षा देती है। एक निश्चित रकम या बीमित रकम निर्देशित नामित व्यक्ति को दे दी जाती है अगर बीमाधारक की पॉलिसी के समय में मृत्यु हो जाती है, और अगर बीमाधारक को पॉलिसी के समय में कुछ नहीं होता है तो किसी को भी कोई भुगतान नहीं दिया जायेगा। क्योंकि यह एक शुद्ध जीवन बीमा है, जिनका प्रीमियम अन्य पॉलिसीयों से बहुत सस्ता होता है। एन्डोमेन्ट बीमा पॉलिसी (Endowment Plans) – एन्डोमेन्ट बीमा पॉलिसी जोखिम से सुरक्षा देने के साथ ही वित्तीय बचत का भी एक उत्पाद है। बीमाधारक को इस बीमा में दो फायदे हैं – अगर बीमा अवधि के अंदर बीमाधारक की मृत्यु हो जाती है तो नामित व्यक्ति को बीमा की रकम मिल जाती है और अगर बीमा अवधि में बीमाधारक को कुछ नहीं होता है तो बीमाधारक ने जो प्रीमियम जमा किया था उसके साथ ही उसके निवेशित उत्पाद बीमा पर बोनस भी मिलता है। अगर बीमाधारक की मृत्यु बीमे की अवधि में होती है तो नामित व्यक्ति को बीमित रकम दे दी जाती है और ध्यान रखें एन्डोमेन्ट बीमा प्लॉन उच्च प्रीमियम और शुल्कों पर कम बीमा के साथ उपलब्ध होते हैं। संपूर्ण जीवन (Whole Life) – संपूर्ण जीवन पॉलिसी बीमा धारक को उसके पूर्ण जीवन काल के लिये बीमा देती है, जो कि नाम से भी विदित होता है। इस पॉलिसी में बीमा धारक को प्रीमियम कुछ निश्चित वर्षों तक भरना होता है, और 100 वर्ष की उम्र इस पॉलिसी के लिये परिपक्वता अवधि होती है, अगर बीमाधारक 100 वर्ष से ज्यादा जीवित रहता है तो वह प्लॉन एन्डोमेन्ट पॉलिसी में बदल जाता है। यूनिट लिंक्ड बीमा प्लॉन (ULIP) – ULIP एन्डोमेन्ट बीमा का ही एक प्रकार है क्योंकि ये बाजार से जुड़े होते हैं और निवेश के लिये उत्पाद में भी गिने जाते हैं, साथ ही जीवन बीमा भी देते हैं, तो ULIP के जरिये आप अपने निवेश को बाजार में लगा सकते हैं जिससे रिटर्न मिलने की उम्मीद ज्यादा होता है और साथ ही बीमा भी रहता है। ULIP में आप अपने जोखिम का अनुपात खुद निश्चित कर सकते हैं कि कितने प्रतिशत आप इक्विटी में लगाना चाहते हैं जिससे कि अच्छा रिटर्न मिले और कितना प्रतिशत सुरक्षित निवेश उत्पादों में निवेश करना चाहते हैं याने कि डेब्ट बाजार में। ULIP को साधारणतया: लंबी अवधि के लक्ष्यों के साथ जोड़कर उपयोग किया जाते है, जैसे कि सेवानिवृत्ति, बच्चों की शिक्षा और बच्चों की शादी। मनीबैक पॉलिसी (Money Back Plans) – मनीबैक भी एन्डोमेन्ट पॉलिसी का एक प्रकार ही है, जिसमें कि जीवन बीमा और निवेश के जरिये पैसे को इकट्ठा करना ही मुख्य उद्देश्य होता है, इस पॉलिसी में निश्चित अवधि और नियत समय पर कुछ निवेश का पैसा वापिस से निवेशक को लौटा दिया जाता है। अगर बीमाधारक अपनी पॉलिसी की अवधि में जीवित रहता है तो उसको बाकी बचा हुआ निवेश लौटा दिया जाता है। और बीमाधारक की मृत्यु होने पर नामित व्यक्ति को बीमित रकम प्रदान कर दी जाती है। एन्यूटी और पेन्शन प्लॉन (Annuities and Pension Plans)– इस तरह की पॉलिसी में बीमा कंपनी बीमित व्यक्ति को एक समय के बाद या सेवानिवृत्ति के समय निवेशित रकम से बनी निश्चित रकम जिसका वायदा उन्होंने किया था या सेवानिवृत्ति के बाद निश्चित पूर्वनिर्धारित निश्चित समयावधि के बाद रकम देती रहती हैं। इससे निवेशक अपना सेवानिवृत्ति भी प्लॉन कर सकता है।
Views: 57136 FinancialBakwas
SIP Return Calculate yourself, SIP से हुये लाभ की गणना खुद करें
 
08:50
SIP Return Calculate yourself, SIP से हुये लाभ की गणना खुद करें
Views: 104662 FinancialBakwas
What is rider in insurance बीमा में राइडर क्या होता है कितने प्रकार का होता है ?
 
11:13
What is rider in insurance बीमा में राइडर क्या होता है कितने प्रकार का होता है ?
Views: 12811 FinancialBakwas
शेयर बाजार में कब क्यों कहाँ और कैसे निवेश करना चाहिये Invest in Share Market When Why Where and How
 
07:33
शेयर बाजार में कब क्यों कहाँ और कैसे निवेश करना चाहिये Invest in Share Market When Why Where and How
Views: 6268 FinancialBakwas
When Personal Loan is required पर्सनल लोन की जरूरत क्यों होती है
 
06:28
When Personal Loan is required पर्सनल लोन की जरूरत क्यों होती है बहुत से लोन हैं तो उनको बंद करके एक लोन रखा जाये Loan Consolidation जैसे कि क्रेडिट कार्ड लोन, अधिक ब्याज दर के लोन इत्यादि क्रेडिट कार्ड का अगर भुगतान नहीं कर पा रहे हैं। घर के लिये नई चीजें खरीदनी हैं। शादी कर रहे हैं। आकस्मिक मृत्यु । बीमारी पर खर्च । अपने मनचाही जगह छुट्टी पर जाने के लिये क्यों लेना चाहिये – बैंक कोई प्रश्न नहीं पूछते कोई सुरक्षा, ग्यारंटर और कोलेट्रल नहीं चाहिये लोन गोपनीय रख सकते हैं बैंक को आप 12 से 60 महीने में लोन वापिस दे सकते हैं कम से कम कागजों की जरूरत होना बैंक 25,000 से 20 लाख तक का लोन देते हैं। सुरक्षा, ग्यारंटर और कोलेट्रल नहीं होने के कारण महँगा सभी के लिये पर्सनल लोन नहीं पार्ट पैमेन्ट नहीं कर सकते Bank will not ask any questions to you for loan Its unsecured, no collateral is required and without guarantor loan. You can maintain Secrecy on personal loan. There are minimum 12 months and maximum 60 months for repay. minimum documentation is required. Bank provides loan 25,000 to 20 lacs, as per eligibility. You can't repay it in part. Bank gives preference to Employees not for businessman.
Views: 3536 FinancialBakwas
हर महीने SIP नहीं भर पा रहे हैं क्या करें? If you are not able to pay SIP every month then?
 
06:10
हर महीने SIP नहीं भर पा रहे हैं क्या करें? If you are not able to pay SIP every month then?
Views: 15813 FinancialBakwas
What is KYC in Hindi केवायसी क्या होता है
 
01:27
What is KYC ? केवायसी क्या होता है ? KYC or Know Your Customer is a customer identification process. केवायसी का मतलब होता है अपने ग्राहक को जानने की प्रक्रिया। The Securities and Exchange Board of India (SEBI) has laid down guidelines under the Prevention of Money Laundering Act 2002, which makes it binding for financial institutions and​ financial intermediaries like mutual funds to acquaint themselves with their customers. सेबी ने हवाला निरोधक एक्ट 2002 के अतर्गत दिशा निर्देश दिये हैं, जिससे कि सारे वित्तीय संस्थान और मध्यवर्ती संस्थानों जैसे कि म्यूचयल फंड को अपने ग्राहक से परिचित होना जरूरी है, इसे ही केवायसी का नाम दिया गया है। KYC process helps prevent money laundering and other suspicious transactions. केवायसी प्रक्रिया से हवाला और सन्देहजनक ट्रांजेक्शन को रोकने में मदद मिलती है। KYC is an offline process that needs to be done by visiting to the financial institution. केवायसी की प्रक्रिया ऑफलाईन होती है, याने कि आपको फॉर्म भरकर वित्तीय संस्थान याने कि बैंक या फिर cams के कार्यालय में जमा करवाना होता है।
Views: 92405 FinancialBakwas
Being Guarantor of Loan !!  Must Know लोन के ग्यारंटर बनने से पहले इन बातों को जान लेना जरूरी है।
 
06:13
लोन के ग्यारंटर बनने से पहले इन बातों को जान लेना जरूरी है। Are you ready to be a guarantor and you should know the Risks of a Guarantor.
Views: 2155 FinancialBakwas
जानिये कि म्यूचुअल फंड कब बेचे जायें? When to Sell Mutual fund!!
 
08:41
जानिये कि म्यूचुअल फंड कब बेचे जायें? When to Sell Mutual fund!!
Views: 17750 FinancialBakwas
What is DICGC ? and how they give insurance on Bank Deposits
 
05:38
DICGC ? and how give insurance on Bank Deposit बैंक में जमा रकम में बीमा कौन देता है DICGC क्या है
Views: 2352 FinancialBakwas
10 things for First time Mutual Fund Investor 10 बातें जो निवेशक को MF में निवेश के पहले जानें
 
10:00
10 things for First time Mutual Fund Investor 10 बातें जो निवेशक को म्यूचुअल फंड में निवेश के पहले जाननी चाहिये
Views: 2363 FinancialBakwas
How to Identify a Multibagger Stock मल्टीबैगर स्टॉक कैसे ढ़ूँढ़ें
 
10:15
मल्टीबैगर स्टॉक कैसे ढ़ूँढ़ें, मल्टीबैगर स्टॉक ढ़ूँढ़ने के लिये मेहनत करना होती है, मल्टीबैगर स्टॉक मतलब कि आपको अपने निवेश पर छप्पर फाड़ लाभ मिले और फिर निवेश के बाद उसको समय भी देना होता है – कुछ उदाहरण (एक किताब से लिये गये हैं ) 15 साल पहले 2001 में एक सेवानिवृत्त स्कूल टीचर ने अपने सेवानिवृत्ति का अधिकतम धन आईशर मोटर्स के शेयर जो 19 रूपये पर थे, उसमें लगाया। आईशर मोटर्स जिसका जबरदस्त उत्पाद है रॉयल एनफील्ड बुलैट । अक्टूबर 2016 में यह स्टॉक 25,773 रूपयों पर ट्रेड कर रहा था, उनको फायदा हुआ 1356 गुना रूपयों का, उन्होंने केवल 1 लाख रूपया 2001 में निवेश किया था और अक्टूबर 2016 में उनको वापिस पैसा मिला 1355.48 करोड़ रूपये। 10 साल पहले एक बंदे ने सिम्फनी जो कूलर वगैरह बनाती है उसके शेयर 1.33 रूपये के भाव में 5 लाख रूपये निवेश किये थे। तब उनके मित्र जो कि शेयर ब्रोकर भी थे, उन्होंने कहा था कि ये पैसे कहीं और लगाओ डूब जायेंगे, पर वे नहीं माने और सिम्फनी कंपनी पर विश्वास किया। आज सिम्फनी का शेयर 1166 रूपये चल रहा है, तो उनको लाभ कम से कम 4013.25 करोड़ रूपयों का हो रहा है। 5 वर्ष पहले एक नौकरीपेशा ने अपनी मेहनत की कमाई के पैसे जो कि मकान खरीदने के लिये निवेश में से निकाले थे, और बहुत सोच विचार कर ये पैसे उन्होंने इंडो काऊँट नामक कंपनी में 9.60 रूपये के हिसाब से निवेश कर दिये। उनका यह निवेश आज लगभग 85 गुना हो चुका है, आज इंडो काऊँट का भाव 818 रूपये हो चुका है। तो ध्यान रखें शेयर बाजार में निवेश बहुत सोच समझकर, समय देकर करें, पढ़ें। स्टॉक खुद से आगे आकर बतायेगा कि मुझे ले लो। कंपनी की बैलेन्स शीट देखें, बाजार में कंपनी के विज्ञापन देखें, कंपनी कैसा काम कर रहीे है, अपने आप ही पता चल जायेगा। जो कंपनी बाजार में ज्यादा दिखे या ऐसा लगे कि अब यह कंपनी के उत्पाद बाजार में अच्छे जम रहे हैं, उनके शेयर खरीदने में देर न करें। बहुत सी कंपनियों में उत्पाद अच्छे होते हैं परंतु चलाने वाला प्रबंधन नहीं, जब किसी कंपनी में प्रबंधन बदल जाये तो वे अपने आप ही अच्छा करने लगते हैं, आज सुबह ही एक मित्र से बात हो रही थी, तो वे बता रहे थे कि इंडसइंड बैंक जब 65 रूपये पर ट्रेड करता था, तब प्रबंधन बदला था और एबीएन एमरो का प्रबंधन पूरा का पूरा यहाँ आ गया था, तो आज शेयर का भाव 1200 रूपये छू रहा है। आप ऊपर दिये गये तीन उदाहरणों में देख सकते हैं कि तीनों निवेशक ने जोखिम लिया और इसके एवज में उनको बेहतरीन लाभ भी मिला। कई लोग इसे किस्मत का खेल मानते हैं तो कई लोग इसको दिमाग का खेल मानते हैं। शंकर शर्मा कहते हैं कि शेयर बाजार में 90 प्रतिशत किस्मत और 10 प्रतिशत ट्रिक याने कि बुद्धि का खेल है। तो जो शेयर आप लंबे समय के निवेश के लिये चुन रहे हैं, वह अगर डर्बी घोड़ा साबित हुआ तो वारे न्यारे हो जाते हैं। ध्यान रखें जब भी निवेश करें तो हमेशा निवेश को बाजार में बढ़ने के लिये समय दें, समय भी कम से कम 5-10 वर्ष देना चाहिये। शेयर में निवेश करने से पहले क्या चीजें किसी भी कंपनी में जरूर देखनी चाहिये, यह जान लेना बेहद जरूरी है – मल्टीबैगर स्टॉक में क्या देखें – कंपनी ने कितने ऋण ले रखे हैं। कंपनी का व्यापार कितना बढ़ सकता है। कंपनी का प्रबंधन अच्छा हो। कंपनी का लाभ सतत अच्छा हो और प्रति शेयर लाभ भी। कंपनी कितना और कमा सकती है और कितना अच्छा बाजार में कर सकती है। याने कि कुछ नये उत्पाद बाजार में हों जो कि जगह बनाकर कंपनी का बिजनेस बढ़ायेंगे। कंपनी के शेयर आसानी से खरीदने वाले न मिलें और कंपनी बहुत प्रसिद्ध न हो। माईक्रो कैप और स्मॉल कैप से ही अच्छे रिटर्न मिलने की संभावनायें होती है, क्योंकि ये कंपनियाँ छोटी होती है और ये कंपनियाँ ही बाजार में कुछ नया करने की क्षमता रखती हैं, जो कंपनियाँ पहले ही जम चुकी हैं वे नया करने के लिये बहुत सोचती हैं और उतना जोखिम नहीं उठाती हैं, परंतु छोटी कंपनियाँ जो कि 10 करोड़ से 1000 करोड़ तक की होती हैं, वे तगड़ा जोखिम उठाकर अच्छा मुनाफा कमाने का माद्दा रखती हैं। उस समय उनकी बैलेन्स शीट से उसके भविष्य का अंदाजा लगाना बहुत ही मुश्किल होता है। उदाहरण के तौर पर मान लीजिये कि कोई छोटी कंपनी जो 50 करोड़ की है तो उसके बढ़ने की अपार संभावना हैं, क्योंकि वे अच्छा काम कर रही होती हैं और उनके लाभ दोगुना तिगुना हो सकते हैं, उनको कोई एक बड़ा सा ऑर्डर 200-300 करोड़ का मिल गया तो वे एकदम से 5-6 गुना बढ़ जाती हैं। अपने सुनहरे भविष्य के लिये जिस कंपनी में आपको अपार संभावना लगती हो, उसमें लंबी अवधि के लिये निवेश करें और बाजार को पढ़ते रहें। बैंक में या घर में पैसा लगाने से कोई निवेशक कभी इतना पैसा नहीं बना सकता। बैंक में 5 वर्ष में पैसा दोगुना नहीं हो सकता वहाँ आपको आयकर भी देना होगा, परंतु अगर बाजार में निवेश करते हैं तो आपको 1 वर्ष के निवेश के बाद आयकर भी नहीं देना होता है और किसी बड़े स्टॉक में भी 5 वर्ष में निवेश दोगुना होने की संभावना ज्यादा होती है। निवेश के मूलमंत्र को ध्यान रखें – अपने निवेश को लंबे समय तक बाजार में निवेशित रहने दें और धैर्य रखें। मल्टीबैगर स्टॉक में आपको समय देना होता है, कभी भी निवेश से हुए लाभ को निकालने में जल्दबाजी न करें। कैसे निवेश हजार गुना करें। जल्दी पैसा कैसे कमायें। बिना मेहनत निवेश से कैसे पैसा कमायें। जल्दी करोड़पति बनें।
Views: 23425 FinancialBakwas
डीमैट और ट्रेडिंग एकाऊँट कहाँ खोलें Where to open Dmat and Trading Account
 
06:09
डीमैट और ट्रेडिंग एकाऊँट कहाँ खोलें Where to open Dmat and Trading Account
Views: 26770 FinancialBakwas
Risk in Mutual Funds Only !! आइये जानते हैं
 
07:44
Risk in Mutual Funds Only ? आइये जानते हैं क्या जोखिम केवल म्युचुअल फंड में ही है ?
Views: 14003 FinancialBakwas
अभी तक शेयर बाजार या म्यूचुयल फंड में निवेश नहीं किया है, तो करिये, देखिये कैसे ?
 
05:29
अभी तक शेयर बाजार या म्यूचुयल फंड में निवेश नहीं किया है, तो करिये, देखिये कैसे ?
Views: 9621 FinancialBakwas
SWP (Systematic Withdrawal Plan) is good instrument for Retirement SWP के बारे में जानें
 
13:32
SWP (Systematic Withdrawal Plan) is good instrument for Retirement SWP के बारे में जानें
Views: 15382 FinancialBakwas
CIBIL में सैटल्ड फ्लैग को क्लोज फ्लैग कैसे करें How to Change the Flag Settled to Closed in CIBIL
 
05:11
CIBIL में सैटल्ड फ्लैग को क्लोज फ्लैग कैसे करवायें। How to Change the Settled Flag in to Closed in CIBIL
Views: 12356 FinancialBakwas
SIP चल रही है, अब उस SIP में ही और ज्यादा निवेश करना चाहते हैं, तो क्या करना होगा
 
04:03
SIP चल रही है, अब उस SIP में ही और ज्यादा निवेश करना चाहते हैं, तो क्या करना होगा
Views: 16686 FinancialBakwas
कम NAV या ज्यादा NAV कौन से म्यूचअल फंड स्कीम में निवेश करना चाहिये ?
 
03:10
कम NAV या ज्यादा NAV कौन से म्यूचअल फंड स्कीम में निवेश करना चाहिये ? Investments in Less price NAV or More Price NAV Mutual Funds
Views: 7098 FinancialBakwas
पैन और टैन नंबर की कब कहाँ और क्यों जरूरत पड़ती है। When where and why PAN / TAN is required
 
05:43
पैन और टैन नंबर की कब कहाँ और क्यों जरूरत पड़ती है। When where and why PAN / TAN is required
Views: 17588 FinancialBakwas
घर बेचकर म्यूचुअल फंड में पैसा लगाना ठीक है क्या? Sell House and Invest in MF?
 
08:54
घर बेचकर म्यूचुअल फंड में पैसा लगाना ठीक है क्या? Sell House and Invest in MF?
Views: 11802 FinancialBakwas
Start SIP but When  म्यूचयल फंड SIP में निवेश कब शुरू करें
 
04:41
Start SIP but When म्यूचयल फंड SIP में निवेश कब शुरू करें
Views: 15450 FinancialBakwas
बैंकिंग क्या होती है What is Banking
 
09:11
बैंकिंग क्या होती है What is Banking
Views: 53905 FinancialBakwas
म्यूचयल फंड में निवेश करें और जब भी जरूरत हो पैसा निकालें ATM से
 
05:58
म्यूचयल फंड में निवेश करें और जब भी जरूरत हो पैसा निकालें ATM से
Views: 18296 FinancialBakwas
What is Bad Bank ? बैड बैंक क्या होते हैं ?
 
03:38
What is Bad Bank ? बैड बैंक क्या होते हैं ?
Views: 2172 FinancialBakwas
How to Claim Online Life Insurance after death
 
08:05
ऑनलाईन जीवन बीमा का क्लैम कैसे करें How to Claim Online Life Insurance after death
Views: 6492 FinancialBakwas
डीमैट एकाऊँट खोलने के बाद किन जरूरी बातों का ध्यान रखें important facts after opening Dmat Account
 
03:31
डीमैट एकाऊँट खोलने के बाद किन जरूरी बातों का ध्यान रखें important facts after opening Dmat Account
Views: 22872 FinancialBakwas
Life Insurance Claim Dishonored जीवन बीमा दावा अस्वीकृत !!!
 
04:50
Life Insurance Claim Dishonored जीवन बीमा दावा अस्वीकृत !!! Three Major reasons for Life Insurance claim rejection - 1. Non disclosure of existing life insurance cover 2. Non disclosure of existing medical history 3. Age Understatement
Views: 2262 FinancialBakwas
Take care while transfer Fund by NEFT, NEFT करते समय सावधानी हटी सावधानी हटी
 
07:01
Take care while transfer Fund by NEFT, NEFT करते समय सावधानी हटी सावधानी हटी
Views: 8115 FinancialBakwas
डाइरेक्ट या रेग्यूलर प्लॉन किसमें निवेश करें Where to Invest Mutual fund Direct or Regular plan
 
04:19
डाइरेक्ट या रेग्यूलर प्लॉन किसमें निवेश करें Where to Invest Mutual fund Direct or Regular plan
Views: 12766 FinancialBakwas
टॉप 10 मल्टीबैगर आईडिया  2018 के लिये TOP 10 Multibagger Stock ideas for 2018
 
06:01
टॉप 10 मल्टीबैगर आईडिया 2018 के लिये TOP 10 Multibagger Stock ideas for 2018
Views: 10795 FinancialBakwas
बैंकिंग के प्रकार Types of Banking
 
09:08
बैंकिंग के प्रकार Types of Banking
Views: 8330 FinancialBakwas
अगर 5 लाख रूपये की ब्याज से आय है तो 15H फॉर्म भर सकते हैं ?
 
02:59
अगर 5 लाख रूपये की ब्याज से आय है तो 15H फॉर्म भर सकते हैं ?
Views: 55983 FinancialBakwas
ATM से पैसे नहीं आये पर खाते में से निकल गये क्या करें ? if ATM didn't dispense the cash?
 
07:23
ATM से पैसे नहीं आये पर खाते में से निकल गये क्या करें ? How do I back my fund, if ATM didn't dispense the cash?
Views: 29995 FinancialBakwas
भविष्य के लिये कितना बचायें? Investment Calculator
 
09:56
भविष्य के लिये कितना बचायें? Investment Calculator
Views: 1633 FinancialBakwas
How to Calculate Pension from NPS NPS में पेंशन की गणना कैसे करें
 
06:30
How to Calculate Pension from NPS NPS में पेंशन की गणना कैसे करें
Views: 37731 FinancialBakwas
How to make money from Physical Share Certificates and what about Income Tax on it
 
03:38
शेयर सर्टिफिकेट हैं, अब अपना निवेश कैसे निकालें और आयकर कितना देना होगा
Views: 1740 FinancialBakwas
How to Apply IPO Online? ऑनलाईन IPO कैसे करें?
 
06:43
How to Apply IPO Online? ऑनलाईन IPO कैसे करें?
Views: 3033 FinancialBakwas
शेयर बाजार में SIP in Share Market
 
04:51
शेयर बाजार में SIP in Share Market
Views: 5133 FinancialBakwas
Credit Card for first time users in Hindi
 
03:54
Tip this Video 5 Rupees https://goo.gl/CRaeqW First Times Credit Card Users पहली बार क्रेडिट कार्ड का उपयोग करने वालों के लिये Credit Cards usage amounts to taking an unsecured loan from the card company. Interest Rates on Credit Cards are high (22-48% p.a.), Interest is levied on a monthly basis. क्रेडिट कार्ड असुरक्षित ऋण है, जो कि आपको क्रेडिट कार्ड कंपनी आपकी आय देखकर देती है। क्रेडिट कार्ड पर ब्याज दर ज्यादा होती है (22-48% p.a.), ब्याज हर महीने लगता है। Credit Cards come with an interest-free period-no interest is payable on the outstanding during this time. Typically it is for 20-50 days. क्रेडिट कार्ड से उपयोग किये गये रकम पर 20-50 दिन तक कोई ब्याज नहीं लगता है। Beyond Interest-free period, monthly interest on outstanding will be charged. In addition, late payment fee and service tax will be levied. ब्याज मुक्त अवधि के बाद मासिक ब्याज उपयोग की गई राशि पर लगेगा, और साथ ही लेट फी और सर्विस टैक्स भी लगेगा। Paying minimum amount due does not mean interest need not be paid. It needs to be paid on balance. Benefit of paying minimum amount is to protect credit score. न्यूनतम राशि जमा करने के बाद भी ब्याज तो देना ही पड़ेगा, और ब्याज बची हुई राशि पर लगेगा, न्यूनतम राशि देने का फायदा यह है कि आपका क्रेडिट स्कोर खराब नहीं होगा। You can withdraw cash using a credit card but the cash withdrawal limit is usually lower than the credit card spending limit. आप क्रेडिट कार्ड से नगद भी निकाल सकते हैं, पर नगद निकालने की लिमिट, खर्च करने की लिमिट से कम होती है।
Views: 186009 FinancialBakwas
म्युचुअल फंड में पहली बार निवेश कर रहे हैं, जान लें ये जरूरी बातें Investing First time in MF
 
05:55
म्युचुअल फंड में पहली बार निवेश कर रहे हैं, जान लें ये जरूरी बातें Investing First time in MF Must Know
Views: 26677 FinancialBakwas
25 Lacs Investment, You can go for PMS 25 लाख से ज्यादा निवेश के लिये पीएमएस भी है
 
05:03
25 Lacs Investment, You can go for PMS 25 लाख से ज्यादा निवेश के लिये पीएमएस भी है
Views: 5505 FinancialBakwas
पिछले 5 वर्षों के म्यूचुअल फंड के बेस्ट फंड मैनेजर्स Best Fund Managers of last 5 Years in MF
 
11:08
पिछले 5 वर्षों के म्यूचुअल फंड के बेस्ट फंड मैनेजर्स Best Fund Managers of last 5 Years in Mutual Fund
Views: 6078 FinancialBakwas
New in Share Market which scrip to buy? शेयर बाजार में नये हैं कौन से शेयर खरीदें?
 
08:42
New in Share Market which scrip to buy? शेयर बाजार में नये हैं कौन से शेयर खरीदें?
Views: 517 FinancialBakwas
स्मॉल फाइनेंस बैंक क्या हैं? What is Small Finance Bank SFB?
 
05:35
स्मॉल फाइनेंस बैंक क्या हैं? What is Small Finance Bank SFB?
Views: 17298 FinancialBakwas
DPD (Days Past Dues) क्या है? और इसका सिबिल स्कोर और रिपोर्ट पर क्या असर है?
 
05:32
DPD (Days Past Dues) क्या है? और इसका सिबिल स्कोर और रिपोर्ट पर क्या असर है? Cibil Score Cibil Credit Report
Views: 1893 FinancialBakwas
Get loan even if you have low credit score क्रेडिट स्कोर खराब हो, तो ऋण लेने के लिए क्या करें
 
08:08
Get loan even if you have low credit score क्रेडिट स्कोर खराब हो, तो ऋण लेने के लिए क्या करें NBFC Credit Card P2P Lending
Views: 21288 FinancialBakwas